» » पौरुष वृद्धि व्यायामों से मोटाई को कैसे बढ़ाएं

पौरुष वृद्धि व्यायामों से मोटाई को कैसे बढ़ाएं

24 August 2018, Friday
170
0
आपकी महिला साथी कहती है कि , " आकार से कोई फर्क नहीं पड़ता ," लेकिन आप इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं कि वह झूठ बोल रही है. हो सकता है कि उसने उन अश्लील किताबों को पढ़ा हो जिसमे कलाकारों का लिंग आपके लिंग से बहुत अधिक मोटा होता है - या शायद यह भी हो सकता है कि वह सेक्स के दौरान पूरी तरह से कभी संतुष्ट ही नहीं होती है. या फिर शायद उसे आपसे भावनात्मक लगाव है. वह ऐसा कहती ही क्यों अगर छुप-छुप कर आपके बड़े लिंग की अभिलाषा नहीं करती ? हमने हर तरह के झूठ सुने हैं, और हम सभी इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं कि आकार मायने रखता है. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह आपको बार-बार क्या बताती है, जब वह कहती है कि सब कुछ ठीक है या जब वह आपको बताती है कि उसे वास्तव में कैसा महसूस होता है. आपको लगता होगा कि आप वहीं तक सीमित हैं जहाँ तक प्रकृति ने आपको दिया है, लेकिन ऐसा नहीं हैं. पौरुष वृद्धि व्यायामों के माध्यम से लिंग के आकार को सुरक्षित, प्राकृतिक और आसान तरीके से बढ़ाया जा सकता है. मैं आपके साथ उन तरीकों में से कुछ को साझा करने जा रहा हूँ, लेकिन उसकी बात करने से पहले लिंग की मोटाई को नापने के बारे में थोड़ी बात करते हैं.

लिंग की औसत मोटाई क्या है?

सबसे पहले तो इसकी बहुत बड़ी संभावना है कि आप जानते ही नहीं होंगे कि आप मोटाई के मामले में औसत तुलना कैसे कर सकते हैं. ऐसा कोई भी मापने का तरीका नहीं है जिसे अधिकृत रूप से औसत लिंग मोटाई को निकलने में उपयोग में लाया जा सकता है. किसी भी एक विधि से दूसरी विधि में थोड़ी बहुत भिन्नताएं हमेशा ही होंगी. हालांकि इस अध्ययन को देखकर आपको कुछ महत्वपूर्ण चीज़ें समझ में आ सकती हैं. यदि आप ढीले लिंग की मोटाई का औसत देखते हैं, तो यह ८.५५-१० सेमी के बीच का होता है. आप इस बात को महसूस करेंगे कि इनमें से प्रत्येक अध्ययन विभिन्न सांख्यिकीय आंकड़ों को दर्शाता है. खड़े लिंग के बीच के हिस्से में मोटाई का आंकड़ा १२.३ सेंटीमीटर से अधिक नहीं होता है और लिंग के आधार पर १३.५ सेंटीमीटर से अधिक नहीं होता है.

मोटाई को कैसे मापें

यदि आप अपने लिंग के आकार को बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं तो इसका कोई मतलब नहीं है जबतक कि आप वास्तव में अपने परिणामों को नहीं देखना चाहते हैं. क्यों? लोगों को उनका आकार कम समझने की समस्या होती है. वे ऐसा मानते हैं कि वे औसत आदमी से अपनी तुलना नहीं कर सकते हैं जबकि वे पूरी तरह से औसत आंकड़ों से ऊपर होते हैं, और जब वे मोटाई को बढ़ाने के लिए व्यायाम करते हैं, तो थोड़े-बहुत फ़ायदे को अनदेखा कर देते हैं क्योंकि उनकी उम्मीदें बहुत ही ज्यादा ऊपर होती हैं. तो आपको सबसे पहले शुरूआती आंकडें प्राप्त कर लेने चाहिए, और फिर अभ्यास के हर महीने नियमित रूप से माप लेते रहेंइस तरह आप निष्पक्ष रूप से यह देख पायेंगे कि वास्तव में आपके लिंग की मोटाई अन्य लोगों की तुलना में कैसी है , और आप अपनी प्रगति पर भी नज़र रख पायेंगे. मोटाई को मापने के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अपने तरीकों को पूरी तरह एक जैसा ही रखना चाहिए. इसका मतलब है कि आपको हमेशा किसी एक बिंदु पर, उसी कठोरता के स्तर पर ही अपने लिंग की मोटाई को मापना चाहिए. तो आपको ऐसा करना है:
  • १. आवश्यक सामग्री जुटा लें: एक स्ट्रिंग, मार्कर, और एक नापने वाला टेप या रूलर.
  • १. लिंग को पूरी तरह से कड़ा करने के लिए कुछ भी करें.
  • १. अपनी मोटाई को मापने के लिए लिंग पर एक बिंदु को चुनें, और हर बार उसी बिंदु का उपयोग करें. सबसे अच्छा विकल्प होता है कि लिंग के बीच की सबसे मोटी जगह को अपना बिंदु बना लें. आमतौर पर अध्ययनों में माप के लिए इसी बिंदु का उपयोग किया जाता है.
  • १. उस बिंदु पर अपने लिंग के चारों ओर स्ट्रिंग लपेटें.
  • १. मार्कर की मदद से स्ट्रिंग को वहां पर चिह्नित करें जहां इसके छोर मिलते हैं.
  • १. अपनी मोटाई को सेंटीमीटर में प्राप्त करने के लिए रूलर या नापने वाले टेप का उपयोग करके स्ट्रिंग को मापें.
अब आप अपने लिंग की मोटाई को औसत आदमी के लिंग की मोटाई से तुलना करने के लिए विभिन्न अध्ययनों के तुलनात्मक आंकड़ों का प्रयोग कर सकते हैं. और अब आपके पास लिंग की मोटाई की शुरूआती जानकारी भी है जिससे आप व्यायाम से होने वाले फायदों की भी गणना कर सकते हैं!

प्राकृतिक रूप से लिंग की मोटाई को कैसे बढ़ाएं

महत्वपूर्ण चीजें सबसे पहले. यदि आप इस विषय पर जानकारी खोजते हैं कि लिंग के आकार (मोटाई या लंबाई) को स्थायी रूप से बढ़ाया जाना क्या संभव है, तो आपको बहुत सारी मिश्रित जानकारी मिलेंगी. आप कुछ लोगों को यह कहते हुए सुनेंगे कि उन्होंने बहुत ही कम समय में तेजी से, प्रभावशाली फ़ायदे प्राप्त किए हैं (अक्सर इन वाक्यों के साथ पहले और बाद की अविश्वसनीय तस्वीरें लगी होती हैं). लेकिन वहीं कुछ अन्य लोग आपको बताएंगे कि लिंग के आकार को स्थायी रूप से बढ़ाने का कोई भी उपाय नहीं मौज़ूद है. इसकी सच्चाई दोनों के बीच में कहीं निहित हैहां, आपके लिंग के आकार को निर्धारित करने में सबसे बड़ा कारक जेनेटिक्स होता है, और इसका कोई भी विकल्प नहीं है. लेकिन आप अपने लिंग के आकार में कुछ हद तक स्थायी वृद्धि प्राप्त कर सकते हैं . यद्यपि आपको अपनी अपेक्षाओं को संयमित रखने की आवश्यकता है. आपके लिंग के आकार में बहुत बड़ी वृद्धि नहीं होने वाली है ये फ़ायदे मामूली होंगे. और इन फायदों को प्राप्त करने के लिए आपको महीनों लगातार प्रयास करते रहना होगा. लेकिन अच्छी बात यह है कि जब बात अपने साथी को संतुष्ट करने की आती है तो मोटाई में कुछ सेंटीमीटर की वृद्धि भी बहुतबड़ा अंतर डाल सकती है. लिंग की मोटाई को बढ़ाने के लिए बाजार में बहुत सारी क्रीम और जैल मौज़ूद हैं. उनमें से ज्यादातर संदिग्ध हैं और उनसे जो भी फायदा होता है वह अस्थायी ही होता है. इसके अलावा, आपके पास केवल कुछ विकल्प ही बचते हैं: एक्सटेंडर, पंप, और व्यायाम. वास्तव में एक्सटेंडर से आपको स्थायी लंबाई का लाभ होगा, लेकिन इसका मोटाई पर कोई ख़ास असर नहीं होगा. पंप से आपको मोटाई में अस्थायी फायदा मिल सकता है, लेकिन इससे कोई स्थायी परिणाम नहीं प्राप्त होंगे. एक्सटेंडर और पंप दोनों बहुत ही उपयोगी हो सकते हैं और आप जो परिणाम पाना चाहते हैं उसे प्राप्त करने के लिए व्यायाम और इन दोनों का संयोजन बहुत ही अच्छा काम करता है. मैं उन दो विकल्पों के बारे में बाद में बात करूंगा. सबसे पहले, मैं पौरुष वृद्धि व्यायामों के माध्यम से मोटाई को बढ़ाने के बारे में बताऊंगा.

सर्वश्रेष्ठ पौरुष वृद्धि व्यायाम

लिंग के आकार को बढ़ाने के लिए मैं कई अलग-अलग अभ्यासों की सलाह देता हूँ. इन अभ्यासों का मेरे ऊपर बहुत ही अच्छा असर पड़ा है, और मैं ऐसे कई अन्य लोगों से मिल चुका हूँ जिन्होंने इन विधियों के माध्यम से लंबाई और मोटाई दोनों ही की बढ़ाने में सफलता हासिल की है. इन सभी तकनीकों से सुरक्षित रहने के लिए सामान्य ज्ञान का उपयोग करें . अगर दर्द होता है तो आप शायद इसे गलत तरह से कर रहे हैं. तुरंत ही रुकें और अपनी तकनीक को सही करें. तकनीक के सही होने पर ये विधियां सुरक्षित, आसान और प्रभावी सिद्ध होती हैं.
  • १जेल्किंग
  • २. जेल्किंग एक प्राचीन प्रथा है जो पिछले सैकड़ों वर्षों से प्रयोग में लायी जा रही है. इसके नाम की व्युत्पत्ति अनिश्चित है, लेकिन ऐसा लगता है कि इसका नाम अरबी भाषा के "दोहन" शब्द से लिया गया है. इस चिकित्सा का उपयोग लिंग में रक्त परिसंचरण और रक्तचाप को बढ़ाने के लिए किया जाता है, जो स्वाभाविक रूप से समय के साथ लंबाई और मोटाई दोनों को बढ़ा सकता है. लिंग के आकार को बढ़ाने के लिए अन्य सभी अभ्यासों की तरह इसमें भी परिणामों को प्राप्त करने के लिए आपको महीनों तक नियमित रूप से इस तकनीक का अनुसरण करना होगा. इसे कैसे करें चरण-दर-चरण जानकारी
  • १. अपने लिंग पर लुब्रिकेंट लगाकर शुरुआत करें. यह आराम और सुरक्षा के दोनों ही के लिए किया जाता है. नारियल का तेल, पेट्रोलियम जेली, या बेबी ऑयल जैसे प्राकृतिक उत्पादों को चुनें.
  • १. यदि आपका लिंग आंशिक रूप से खड़ा है तो आपको सबसे अच्छे परिणाम मिलेंगे. आदर्श रूप से आपके लिंग का कड़ापन लगभग ५०-७५% होना चाहिए.
  • १. एक बार जब आपका लिंग आपकी ज़रुरत के अनुसार आंशिक रूप से खड़ा हो जाये, तो अपने अंगूठे और इंडेक्स उंगली को एक साथ रख कर अपने हाथ से "ओके" का चिह्न बनाएं.
  • १. अपने लिंग की शुरुआत से "ओके" पकड़ से अपने लिंग को पकड़ लें, कोशिश करें कि आपकी पकड़ पेल्विक हड्डी के ज्यादा से ज्यादा करीब हो. हल्के दबाव से लिंग के उपरी हिस्से तक इस "ओके" पकड़ को ले जाएं. लिंग के टोपे के ठीक पहले ही रुक जाएँ.
  • १. इस प्रक्रिया को दोहराते रहें. इसके १० मिनट के प्रयोग के बाद आप रुक सकते हैं.
अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको इस व्यायाम को कम से कम कुछ महीनों तक करना होगा, इसलिए धीरज रखें और इसको समय देते रहें, भले ही शुरुआत में कुछ भी असर न दिखेयह भी सुनिश्चित करें कि आप निम्नलिखित सावधानियों का पालन करते हुए सुरक्षित ढ़ंग से व्यायाम कर रहे हैं:
  • ○ प्रत्येक सत्र को शुरू करने से पहले अपने लिंग के चारों तरफ गर्म तौलिया लपेटें. प्रत्येक सत्र को ठीक इसी तरह से करें. इससे आपको कोई चोट नहीं आएगी.
  • ○ जब लिंग पूरी तरह से खड़ा हो तो इसे न करें.
  • ○ अपनी पकड़ को बहुत ज्यादा कस कर मत रखें. हल्की पकड़ से शुरू करें और दबाव को सुविधा के अनुसार बढ़ाएं, लेकिन पकड़ को हद से ज्यादा हल्का भी न रखें.
  • ○ यदि आपको दर्द महसूस होता है, तो आप जो कुछ भी कर रहे हैं उसे तुरंत ही रोक दें.
मोटाई और लम्बाई दोनों को ही बढ़ाने के लिए जेल्किंग सबसे लोकप्रिय और प्रभावी मैनुअल व्यायामों में से एक है , इसलिए यदि आप किसी एक अभ्यास को करने की सोच रहे हैं तो इसका ही चुनाव करें. १२.स्ट्रेचिंग लिंग को खींचने के अभ्यासों का प्रयोग ज्यादातर लंबाई को बढ़ाने के लिए किया जाता है, लेकिन यदि जेल्किंग के साथ इसका संयोजन कर दिया जाये तो यह बहुत अच्छा काम कर सकता है. खींचना आसान नहीं होता है. आपको बस इतना करना होता है कि अपने लिंग को ठीक टोपे के नीचे पकड़ लें और लगभग ३० सेकंड तक धीरे-धीरे खींचें. निम्नलिखित सभी दिशाओं में ऐसा करें:
  • ○ नीचे
  • ○ ऊपर
  • ○ सीधे बाहर की तरफ़
  • ○ दाएँ
  • ○ बाएँ
जेल्किंग की तरह इसमें भी आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आप इसे अधिक न करें. आप अपने लिंग के ऊतकों को अच्छा खिंचाव देना चाहते हैं, लेकिन आपको यह भी सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि कहीं आप इतना तेज़ न खीच दें कि दर्द होने लगे. जब भी आपको किसी भी प्रकार का तेज दर्द महसूस हो, तो इसे एक चेतावनी संकेत के रूप में लेना चाहिए कि आप स्वयं को चोट पहुंचाने वाले हैं (या पहले से ही पहुंचा चुके हैं). जेल्किंग की तरह इसे भी लिंग के चारों ओर गर्म तौलिया को लपेटकर शुरू करना ही श्रेयस्कर होता है. यह खुद को चोट पहुचाने की संभावना को बहुत ही कम कर देता है. इस अभ्यास को आपको तभी करना चाहिए जब आपका लिंग पूरी तरह से ढीला हो. कुछ खिचाव के व्यायामों को लिंग के हल्के खड़े होने पर किया जाता है, लेकिन यदि आप व्यायामों को ढीले लिंग पर करते हैं तो खुद को चोट पहुंचाने की संभावना बहुत ही कम होती है. ध्यान दें कि इससे कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आप खड़े होकर इस व्यायाम को कर रहे हैं या फिर बैठे कर. मैं आपको बस एक चेतावनी देना चाहता हूँ कि अगर आप किसी भी तरह के तेज दर्द को महसूस करते हैं तो आप जो भी कर रहे हैं उसे फ़ौरन रोक दें, आप अपने शरीर के किसी अन्य हिस्से की तरह लिंग को भी फैलाने में "जलन" का अनुभव कर सकते हैं. फिर से अपने सामान्य ज्ञान का उपयोग करें. यदि आपको इस अभ्यास के दौरान शरीर के किसी अन्य हिस्से में भी दर्द महसूस होता है तो रुक जाएँ क्योंकि यह शरीर के किसी अन्य हिस्से में खतरे को इंगित करता है. वहीं थोड़ा बहुत दर्द, खुजली या थकान एकदम सामान्य है. लेकिन अगर आप कुछ भी ऐसा महसूस करें जिससे आप चिंतित होते हैं, तो आप जो भी कर रहे हैं उसे वहीं पर रोक दें. आराम करें, अपनी तकनीक को फिर से चुनें और पुनः प्रयास करें. १एजिंग आमतौर पर यौन सहनशक्ति को बढ़ाने और समयपूर्व स्खलन से निपटने के लिए एजिंग की सिफारिश की जाती है.
लेकिन वास्तव में यह व्यायाम लिंग के आकार को बढ़ाने में भी आपकी मदद कर सकता हैएजिंग क्या है ? यह वह व्यायाम है जिसमे आप पानी निकलने के ठीक पहले तक हस्तमैथुन करते हैं, और आप उस "वापसी के बिंदु" पर रुक जाते हैं जिसके आगे बढ़ने पर आपका पानी निकल जाएगा. इस व्यायाम का लक्ष्य यही होता है कि जितना ज्यादा से ज्यादा संभव हो सके उतनी देर तक अपने वीर्य को स्खलित होने से रोक सकें, साथ ही साथ आपका लिंग भी पूरी तरह से खड़ा बना रहे. अब आप सोच रहे होंगे कि यदि आप अपने लिंग की मोटाई को बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं तो यह आपके लिए कैसे उपयोगी होगा? खैर, इसके बारे में सोचो. आम तौर पर जब आप हस्तमैथुन या सेक्स करते हैं, तो आपका लिंग पानी निकलने के कुछ मिनट पहले तक ही कड़ा रहता है (यदि आप औसत हैं). आपका लिंग ज्यादातर समय तक ढीला ही बना रहता है. इसलिए वास्तव में आपके लिंग को लंबे समय तक कड़ा बने रहने का मौका ही नहीं मिलता है. यदि आप एक लम्बी अवधि के लिए कड़ेपन को बरक़रार रख पाते हैं, तो आपके लिंग के ऊतकों में भी थोड़ा खिचाव आता है. आपको यह भी अहसास होगा कि जेल्किंग से हुए सूक्ष्म घावों को भरने में एजिंग से मदद मिलती है, (ये सूक्ष्म घाव कोई बुरी चीज नहीं है वे केवल प्रक्रिया का हिस्सा हैं). सूक्ष्म घाव जल्दी ही ठीक हो जाएंगे, लेकिन एजिंग से सही होने की प्रक्रिया और भी तेज हो जाती है. जब आप कड़ेपन के समय में हुई वृद्धि के माध्यम से लिंग में अधिक रक्त खींचते हैं, तो आप अपने लिंग के ऊतकों को भी पोषक तत्व प्रदान कर रहे होते हैं. यह आपके विकास को सुविधाजनक बना सकता हैआप एजिंग को ठीक से कैसे कर सकते हैं? यदि आप प्रयोग करें तो आप शायद आप खुद से ही इसकी विधि को समझ सकते हैं, फ़िर भी मैं आपको इसका सबसे प्रभावी तरीका बता रहा हूँ:
  • १. लुब्रिकेंट से शुरू करो.
  • १. जब आप हस्तमैथुन की शुरुआत करें, तो अपने लिंग के आधार पर स्ट्रोक करें. इसे धीरे-धीरे करें, और हाथों को ऊपर की तरफ़ ले जाएं. लेकिन लिंग के टोपे से बचने की कोशिश करें. ये लिंग का सबसे संवेदनशील भाग हैं, और विशेष रूप से जब आप शुरुआती दौर में हैं, तो इसके माध्यम से बहुत ही जल्दी आपके लिंग का पानी निकल जायेगा जो कि हमारा उद्देश्य बिलकुल भी नहीं है.
  • १. अगर आपको ऐसा महसूस होता है कि आप वापसी के आख़िरी बिंदु पर पहुच गए हैं तो तुरंत ही रुक जाएँ. यदि आप कर पायें तो हल्के-हल्के झटके मारते रहें, लेकिन इन झटकों को धीमा ही रखें और अपने हाथ को आधार की तरफ वापस ले जाएं.
  • १. यदि आप एकदम पानी निकलने के आख़िरी बिंदु पर हैं तो आप जो भी कर रहे हैं उसी पूरी तरह से बंद कर दें. तब तक प्रतीक्षा करें जब तक कि वीर्य स्खलन की उत्तेजना कम न हो जाए, और एक बार उत्तेजना शांत हो जाये उसके बाद में फिर से अभ्यास शुरू कर दें. पहले की तरह धीमी गति से आधार से शुरू करें, फिर धीरे-धीरे सिर की तरफ आगे बढ़ें.
इस विषय में कोई नियम नहीं है कि आपको इसे कब तक करने की आवश्यकता है. जब तक आप इसे कर सकते हैं, तब तक करें और इससे जो भी परिणाम आपको प्राप्त हो उससे खुश रहें. आपको यह पता होना चाहिए कि समय के साथ आप बेहतर और बेहतर होते जाते हैं जिससे आप अपने अभ्यास के समय को और बढ़ा सकते हैं. यह न केवल आपके अपने लिंग की मोटाई को प्राकृतिक रूप से बढ़ाने में मदद करेगा, बल्कि इससे आपकी बिस्तर में भी सहनशक्ति बढ़ जाएगी! १निचोड़ यह एक ऐसा अभ्यास है जिसे सावधानी के साथ किया जाना चाहिए. यह एक उन्नत तकनीक है और इसमें गलती होना बहुत ही आसान है. बहुत से लोग ऐसा कहते हैं कि उन्होंने निचोड़ के माध्यम से ही सबसे अच्छे मोटाई बढ़ाने के परिणामों को प्राप्त किया.
  • १. अपने लिंग को पूरी तरह से कड़ा कर लें.
  • १. जैसा जेल्किंग में करते हैं वैसे ही एक हाथ से "ओके" पकड़ बनाएं. लिंग के आधार पर अपने लिंग को पकड़ने के लिए इस पकड़ का प्रयोग करें.
  • १. अपने दूसरे हाथ से भी "ओके" पकड़ बनाएं.
  • १. उस दूसरे हाथ की ओके पकड़ से अपने लिंग को विभिन्न बिंदुओं पर निचोड़ें. इसे लगभग एक-एक इंच की दूरी पर करें. जब तक कि आप लिंग के टोपे तक न पहुंच जाएँ तब तक इसे करते रहें.
इस व्यायाम का मुख्य लक्ष्य उन क्षेत्रों में खिंचाव बनाना है जिन्हें आप निचोड़ नहीं रहे हैं. उनके बीच दबाव को बढ़ाकर ऊतकों के आकार को बढ़ाया जाता है.

निचोड़ से बहुत सावधान रहें !

यदि आप बहुत अधिक दबाव लगाते हैं तो आप गंभीर रूप से खुद को चोट पहुंचा सकते हैं. यदि आप संदेह में है तो आप जो भी कर रहे हैं उसे रोक दें- या फिर इस विधि का तब तक प्रयोग ही न करें जब तक कि आप इसके विषय में सुनिश्चित न हो जाएँ कि आप क्या कर रहे हैं. यदि आप नौसिखिया हैं, तो जेल्किंग, जेंटल स्ट्रेचिंग और एजिंग को ही आजमायें.
Comments:
Comment on
reload, if the code cannot be seen
Useful articles about health and beauty in India
Hindi-health.pro © 2018