» » कड़ेपन के लिए उपचार

कड़ेपन के लिए उपचार

01 August 2018, Wednesday
338
0

कभी कम तो कभी ज्यादा, लेकिन अधिकांश पुरुष कड़ेपन की समस्या या नपुंसकता जैसी समस्याओं का सामना करते हैं. ये यौन विकार विभिन्न कारकों के कारण होते हैं. इस लेख में हम आसानी से उपलब्ध और प्रभावी उपचारों के माध्यम से कड़ेपन की समस्या को सही करने वाले तरीकों का विश्लेषण करेंगे. नपुंसकताकाप्रकार:क्यासमस्याआपकेशरीरकेभीतर हैयाफिरआपकेदिमागमें बसी हुईहै? नपुंसकता के प्रकारों में शामिल हैं:
  • मनोवैज्ञानिक. अप्रत्याशित रूप से कड़ापन खत्म हो जाता है. आम तौर पर मनोवैज्ञानिक कारकों के कारण होने वाली कड़ेपन की समस्या सीधे आपके जीवन से जुडी कुछ घटनाओं से संबंधित होती है. यह रिश्ते की समस्याओं, तनाव, या गंभीर भावनात्मक तनाव के कारण हो सकता है. हालाँकि रात्रि के समय और सुबह में कड़ापन बरक़रार रहता है.
  • आर्गेनिक. यह धीरे-धीरे विकसित होता है. कड़ेपन की समस्या एकदम नहीं आती है. स्खलन और सामान्य कामेच्छा में कोई भी परिवर्तन नहीं आता है. हालांकि रात्रि के समय और सुबह कड़ापन नहीं होता है. आर्गेनिक नपुंसकता के कारणों में कोई बीमारी, ट्रॉमा, सर्जरी या कुछ दवाओं का सेवन भी शामिल है.

एक मिश्रित रूप. अक्सर आर्गेनिक कारकों के कारण होने वाली कड़ेपन की समस्या मनोवैज्ञानिक कारणों से बढ़ती है. क्या गोलियाँसहायकहोसकतीहैं?

"अच्छे कड़ेपन" जैसी इच्छाएं आमतौर पर पुरुषों को वयाग्रा, लविट्रा और सियालिस जैसी प्रसिद्ध दवाओं की याद दिलाती हैं. दवाएं प्रभावी होती हैं, लेकिन दवाएं केवल तभी सहायक हो सकती हैं जबकि कोई व्यक्ति नपुंसकता से पीड़ित न हो. इस उपाय से नतीजे हासिल करने के लिए प्राकृतिक स्तर पर कड़ापन बहुत ही जरूरी होता है. ये दवाएं कड़ेपन को मजबूत कर सकती हैं और इसे लंबे समय तक टिका सकती हैं. यह पिनिस रिलैक्सिंग इफ़ेक्ट को अवरुद्ध करके हासिल किया जाता है. सम्भोग के बाद लिंग प्राकृतिक रूप से विश्राम करता है. सिल्डेनाफिल (वयाग्रा और इसी तरह के उत्पादों) के फायदे:
  • कड़ेपन की गुणवत्ता में सुधार यौन संभोग को लंबे समय तक चलाने में मदद करता है;
  • इनसे कोई मर्द बहुत ही जल्दी उत्तेजित हो जाता है और कड़ेपन को प्राप्त करने में लगने वाला आवश्यक समय भी कम हो जाता है;
  • वीर्यपात के बाद फिर से कड़ेपन की संभावना बढ़ जाती है;
  • इन दवाओं का उपयोग मधुमेह या एथेरोस्क्लेरोसिस से पीड़ित पुरुषों द्वारा भी किया जा सकता है. इन गोलियों का उपयोग तब भी किया जा सकता है जब लिंग में रक्त को ले जाने वाली नसें या रीढ़ की हड्डी में फैला तंत्रिकातंत्र क्षतिग्रस्त हो जाता है.
  • लिंग की संवेदनशीलता में थोड़ी वृद्धि.

FREE Fast Shipping offer for our readers:

  • पहले और दूसरे सप्ताह में:  
    कड़ापन लम्बे समय के लिए कठोर बन जाता है, लिंग की संवेदनशीलता २ गुना तक बढ़ जाती है. परिणाम नज़र आने लगते हैं – क्योंकि आपके लिंग का आकार १.५ सेमी. तक बढ़ चुका होता है.1
  • दूसरे और तीसरे सप्ताह में:  
    पहले से आपके लिंग में आकार वृद्धि दर्शित होने लगती है, यह संरचनात्मक रूप से एकदम सटीक बन जाता है. सम्भोग का समय ७०% तक बढ़ जाता है!2
  • चौथे सप्ताह में और उससे आगे:  
    लिंग ४ सेमी. तक बढ़ जाता है! सम्भोग का आनंद पहले से और भी अच्छा हो जाता है. ओर्गेज़्म लम्बे समय के होते हैं जो कि ५-७ मिनट तक चलते हैं!

सिल्डेनाफिल युक्त दवाएं विशेष रूप से प्रभावी होती हैं जब जननांगों में बहुत तीव्र रक्त प्रवाह के कारण कड़ेपन की समस्या पर असर पड़ता है. हालांकि, ये दवाएं प्रत्येक पुरुष के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं क्योंकि इनके कई प्रकार के कॉण्ट्राइंडिकेशन होते हैं:
  • गंभीर हृदय संबंधी समस्याओं से पीड़ित पुरुषों द्वारा इनका उपयोग नहीं किया जा सकता है. इससे कड़ेपन में दर्द की भी समस्या आती है.
  • इस दवा को लेने के बाद किसी व्यक्ति को वाहन चलाने के समय सावधानी बरतनी चाहिए;
  • किसी भी तरह की नाइट्रेट्स की दवाओं के साथ इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए. नाइट्रेट्स की दवाओं से गलप्रदाह और अन्य प्रकार की एथेरोस्क्लेरोटिक कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का इलाज किया जाता है. सिल्डेनाफिल के साथ इन दवाओं के सेवन से धमनियों में रक्तचाप में भारी गिरावट हो सकती है जो कि आपकी जान के लिए भी ख़तरनाक हो सकती है.
महत्वपूर्ण: समय के साथ आपका शरीर इन दवाओं का आदी हो जाता है जिससे इनका प्रभाव कम हो जाता है. ये विभिन्न साइड इफेक्ट्स के लिए भी ज़िम्मेदार हैं जिनमें नाक का लाल होना, सूंघने की क्षमता प्रभावित होना, सिरदर्द और चेहरे, गर्दन में रक्त के प्रवाह का बहुत अधिक बढ़ जाना शामिल है. इसलिए यह कहा जा सकता है कि ये दवाएं लगातार उपयोग के लिए उपयुक्त नहीं हैं. कड़ेपन में सुधार लाने के लिए अलग-अलग और सुरक्षित उपचारों की आवश्यकता होती है. जिनमें वैक्यूम पंप, विब्रो-स्टीम्युलेटर और प्राकृतिक बायोलॉजिकल सप्लीमेंट शामिल हैं.

सुरक्षितउपचार भीमौजूदहैं

आइए तो अब सुरक्षित उपचारों पर नज़र डालें जो कड़ेपन की अक्षमता से निपटने में बहुत ही कारगर होते हैं.
१. वैक्यूम पंप. यह बहुत सस्ता तो नहीं लेकिन फिर भी सभी एडल्ट स्टोर्स पर किफ़ायती दामों पर उपलब्ध होता है. यह पूर्ण नपुंसकता की स्थिति में भी अस्थायी रूप से लिंग को एक इंच या उससे भी अधिक बढ़ाकर कड़ेपन को प्राप्त करने में मदद करता है. इस डिवाइस का उपयोग करना आसान है. लिंग को पंप में डालकर ट्यूब के अंदर से हवा को निकालकर वैक्यूम बनाया जाता है. नकारात्मक दबाव से जननांग में रक्त आपूर्ति की वृद्धि होती है. इसके अतिरिक्त, यह छोटी रक्त वाहिकाओं के कार्य को बेहतर बनाने में मदद करता है जो पहले प्राकृतिक रूप से कार्य करने में नाकाम रहीं थी. लिंग में हुई रक्त प्रवाह की वृद्धि, निष्क्रिय जीवनशैली, यौन संभोग की कमी और मूवमेंट्स की कमी के कारण पेल्विस में आये जमाव को समाप्त करता है. वैक्यूम पंप में इरेक्शन रिंग के उपयोग की आवश्यकता होती है. यह रक्त के बहिर्वाह को रोकने और कड़ेपन को बरक़रार रखने में लिंग की मदद करता है. महत्वपूर्ण: ऊतकों को नुकसान से बचाने के लिए ३० मिनट से अधिक समय के लिए इरेक्शन रिंग नहीं पहनी जानी चाहिए. पिनिस एनलार्जमेंट क्रीम के साथ पंप के उपयोग से बेहतर परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं. Titan gel जैसे लुब्रिकेंट इसमें अच्छा काम करते हैं. ये कड़ेपन की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ-साथ आपके लिंग को बड़ा बनाने में भी मदद करते हैं.
२. विब्रो-स्टिम्युलेटर भी पुरुषों के स्वास्थ्य के लिए अनुकूल है. यह निष्क्रिय तंत्रिका कनेक्शनों को उत्तेजित कर सकता है जिससे मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी और लिंग के बीच के संचरण को बहाल किया जा सकता है. यह एक सुरक्षित डिवाइस है. यह उच्च आवृत्ति का कंपन बनाकर लिंग की नसों के अंतिम छोर को प्रभावित करता है जिसके परिणामस्वरूप रक्त की आपूर्ति बढ़ जाती है जो लिंग को कड़ा बनाने में मदद करती है.
३. Hammer of Thor सप्लीमेंट. यह एक प्राकृतिक दवा है जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर में प्राकृतिक रूप से वृद्धि करके कड़ेपन को प्रभावित करता है. सेक्स हार्मोन्स के संतुलन की बहाली से यौन सहनशक्ति में सुधार आता है और कड़ेपन का समय भी बढ़ जाता है. इस दवा के कोई भी कॉण्ट्राइंडिकेशन नहीं है. १ महीने के इलाज से परिणाम को हासिल किया जाता है.

प्रभाव छह महीने तक बरक़रार रहता है.

  • उपर्युक्त उपचारों के फायदे;
  • दैनिक उपयोग के लिए उपयुक्त;
  • प्रत्येक संभोग से पहले इस्तेमाल किया जा सकता है;
  • प्रोस्टेट ग्लैंड के ऑपरेशन के बाद रिकवरी के समय में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • बढ़ती आयु के चलते लिंग के आकार में होने वाली कमी और कड़ेपन की कमी से बचाता है.
कीगल अभ्यास को भी किया जाना चाहिए. इस व्यायाम को लिंग से जुड़े ख़ास वेट के साथ भी जोड़ा जा सकता है. ये अभ्यास आपके यौन जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने, कामेच्छा और सहनशक्ति को मजबूत करने में मदद करते हैं.

निष्कर्ष

अपने आप को और अपने साथी को यौन जीवन के आनंद से पूर्ण रखने के लिए कड़ेपन को (अवश्य ही) बहाल किया जाना चाहिए. आजकल, यौन जीवन में अनुभव किए जाने वाली प्रत्येक संभावित उत्तेजना को वापस लाने वाले बहुत से उपाय मौज़ूद हैं.
Comments:
Comment on
reload, if the code cannot be seen
Useful articles about health and beauty in India
Hindi-health.pro © 2018