» » मर्दानगी क्या है - प्राकृतिक रूप से मर्दानगी को बढ़ाने के ७ तरीके

मर्दानगी क्या है - प्राकृतिक रूप से मर्दानगी को बढ़ाने के ७ तरीके

26 July 2018, Thursday
284
0
हम अक्सर इस बात को स्वीकार करने में मुश्किलों का सामना करते हैं कि दुनिया भर में यौन समस्याएं पुरुषों के बीच अपेक्षाकृत आम होती हैं. जब कोई व्यक्ति यौन समस्या का शिकार हो जाता है तो यह समस्या उसके जीवन पर काफी बड़ा प्रभाव डाल सकती है. पुरुषों में यौन समस्याओं का प्रभाव न केवल बेडरूम में उनके प्रदर्शन पर पड़ता है बल्कि यह उनके जीवन के अन्य क्षेत्रों को भी प्रभावित कर सकता है- जैसे कि आत्म-सम्मान में कमी या फिर साथी के साथ यौन संबंध बनाने के समय आत्मविश्वास. पुरुषों में पाई जाने वाली यौन समस्याएं अंततः कुछ उन अन्य लक्षणों की ओर ले के जा सकती हैं जो किसी अन्य यौन समस्या से संबंधित होते हैं. हम इस पोस्ट में विशेष समस्या पर चर्चा करने जा रहे हैं जिसे नपुंसकता या कड़ेपन की समस्याके रूप में भी जाना जाता है, अक्सर पुरुष जब अपने साथी के साथ सम्भोग कर रहे होते हैं तो वे ख़राब प्रदर्शन के शिकार होते हैं, क्योंकि वे अच्छा कड़ापन न होने के चलते प्रदर्शन की चिंतासे घिरे रहते हैं. साथ ही साथ, कामेच्छा या सेक्स ड्राइव की कमी भी पुरुषों में कड़ेपन की समस्या पैदा कर सकती है; जिससे इसका मर्दानगी पर ग़लत असर पड़ता है.

मर्दानगी बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके क्या हैं?

जॉन्स हॉपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि कम से कम १ करोड़ अस्सी लाखपुरुष कड़ेपन की समस्या से प्रभावित हैं, जिसमे मात्र १८.४% वयस्क पुरुष ही इस समस्या के बारे में जान पाते हैं और बेडरूम में इसके दंश को भुगतते रहते हैं. यौन विकारों का उम्र के साथ गहरा नाता होता है, उम्र बढ़ने के साथ-साथ कड़ेपन की समस्या में भी वृद्धि देखने को मिलती है, कुछ अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी कड़ेपन के निदान और विकास में एक बड़ा किरदार निभाती हैं. मायो क्लिनिक के अनुसार हृदय रोग, एथेरोस्क्लेरोसिस, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, मोटापा, चयापचय सिंड्रोम और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का इससे सीधा नाता है.

१. अपने आहार की जांच करें

जब हम दिन में व्यस्त होते हैं तो हम दोपहर के भोजन के समय अस्वास्थ्यकर विकल्पों का चयन कर लेते हैं. लंच रूम में लगी हुई वेंडिंग मशीन सभी को बहुत ही आकर्षक लगती है और छोटे से लंच ब्रेक में आपके पास बाहर जाकर सही खाना खाने का समय भी नहीं होता है. कभी आलू चिप्स तो कभी सोडा यही चलता रहता है, इससे पहले कि आप समझ पाए आप हर दिन अस्वास्थ्यकर स्नैक्स खाने लगते हैं. इन खाद्य पदार्थ में चीनी, अस्वास्थ्यकर वसा और अन्य बुरे तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं जो आपके शारीरिक स्वास्थ्य को कई तरीकों से नुकसान पहुंचा सकते हैं. चीनी आपके रक्त में ग्लूकोज के स्तर को बढ़ाती है, जिससे आपके रक्त में चीनी की वृद्धि हो जाएगी और आप बेहोश भी हो सकते हैं, इससे थकान भी होती है. अक्सर चीनी के सेवन से शरीर इंसुलिन से प्रतिरोध की भावना को भी विकसित कर सकता है और यहां तक कि आप टाइप २ मधुमेह के शिकार भी हो सकते हैं. अस्वास्थ्यकर वसा आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ा सकता है. ये खाद्य पदार्थ आपके वजन में भी बढ़ोतरी करते हैं, जो मोटापे का कारण बन सकता है. हेल्थलाइन के मुताबिक, इस बात के वैज्ञानिक सबूत उपलब्ध हैं कि कड़ेपन की अक्षमता और अस्वास्थ्यकर आहार का एक दूसरे से सीधा संबंध है.

FREE Fast Shipping offer for our readers:

  • पहले और दूसरे सप्ताह में:  
    कड़ापन लम्बे समय के लिए कठोर बन जाता है, लिंग की संवेदनशीलता २ गुना तक बढ़ जाती है. परिणाम नज़र आने लगते हैं – क्योंकि आपके लिंग का आकार १.५ सेमी. तक बढ़ चुका होता है.1
  • दूसरे और तीसरे सप्ताह में:  
    पहले से आपके लिंग में आकार वृद्धि दर्शित होने लगती है, यह संरचनात्मक रूप से एकदम सटीक बन जाता है. सम्भोग का समय ७०% तक बढ़ जाता है!2
  • चौथे सप्ताह में और उससे आगे:  
    लिंग ४ सेमी. तक बढ़ जाता है! सम्भोग का आनंद पहले से और भी अच्छा हो जाता है. ओर्गेज़्म लम्बे समय के होते हैं जो कि ५-७ मिनट तक चलते हैं!

२. सिगरेट पीना छोड़ दें

रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र अपनी रिपोर्ट में इस बात पर चर्चा करता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग तीन करोड़ पैंसठ लाखवयस्क धूम्रपान करते हैं, जिसमें सत्ताईस करोड़ छेः लाख लोग हर दिन धूम्रपान करते हैं. धूम्रपान को कई स्वास्थ्य समस्याओं से जोड़ा गया है और ये हर साल लाखों लोगों को मौत की ओर ले जाता है. धूम्रपान दिल को नकारात्मक तरीके से प्रभावित करता है और श्वसन प्रणाली में भी समस्याओं को जन्म देता है. इससे रक्तचाप बढ़ने लगता है, अस्थमा विकसित होने लगता है और यहाँ तक कि ये दृष्टि की समस्याओं को भी जन्म देता है. धूम्रपान से कैंसर के विकास का जोखिम भी बढ़ जाता है. इन प्रभावों के अलावा, धूम्रपान रक्त वाहिकाओं के आकार को कम करने का कारण भी बनता है, जिससे रक्त को लिंग तक पहुंचने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. यह एक व्यक्ति की कड़ेपन को प्राप्त करने की क्षमता और उसके बाद टिके रहने की क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है.

३. शराब के सेवन को कम करें

जबकि हम पदार्थों के दुरुपयोग के विषय पर बात कर रहे हैं, हमें शराब के बारे में भी बात करनी चाहिए. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन अल्कोहल एब्यूज एंड अल्कोहोलिज़्म इस बात को रिपोर्ट करता है कि लगभग ८६.४% लोगों ने शराब का सेवन किया है, जिसमे ५६% वयस्क महीने में कम से कम एक बार शराब पीते हैं. इन आंकड़ों के अलावा यह भी ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है कि २६.९% अमेरिकी अक्सर शराब पीते हैं. कभी कभार एक गिलास शराब या अन्य कोई मादक पेय ज्यादा दिक्कत नहीं करता है - लेकिन बहुत अधिक शराब पीने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं. अक्सर शराब के उपयोग से कड़ेपन की समस्या विकसित होती है. यदि आप अक्सर शराब पीते हैं और इस डरावनी यौन समस्या के संकेतों का अनुभव कर रहे हैं तो शराब के सेवन को कम करने का प्रयास करें.

४. वजन कम करें

मोटापा एक वैश्विक स्वास्थ्य समस्या बन गया है, जिसमें अधिकांश अमेरिकी लोग अधिक वज़न के शिकार होते हैं. लगभग ३३% अमेरिकी वयस्क मोटापे से ग्रस्त हैं और ५% अमेरिकी गंभीर रूप से मोटापे से परेशान हैं. मोटापा एक स्वास्थ्य समस्या है जो कि शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के कई क्षेत्रों के साथ-साथ हृदय रोग जैसी समस्याओं का भी कारण बनता है. मोटापे से ग्रस्त पुरुषों में कड़ेपन की समस्या तेज़ी से बढ़ रही है; इस प्रकार से अतिरिक्त वजन कम करके आप कड़ेपन की समस्या पर काफी सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं.

५. एरोबिक ट्रेनिंग करें

हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है, और यहां तक कि हमारे मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के लिए भी इसके कई फायदे हैं. व्यायाम से हृदय रोग के विकसित होने का जोखिम भी कम होता है, इससे वजन कम करने में मदद मिलती है और तनाव भी कम होता है. अमेरिकन जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि ६ मिनट दैनिक टहलने जैसे साधारण अभ्यास से पुरुष प्रतिभागियों के बीच कड़ेपन की समस्या के लक्षणों में सुधार देखने को मिला, इस अध्ययन में सभी पुरुषों ने ३० दिनों के लिए भाग लिया था.

६. कीगल्स आज़माएं

महिलाओं के बीच कीगल अभ्यास काफी लोकप्रिय हैं, क्योंकि इससे उन्हें कई फायदे मिलते हैं, लेकिन पुरुषों को इस तथ्य को नहीं काटना चाहिए कि इन अभ्यासों से उन्हें भी कई तरह के लाभ मिलते हैं. राइजिंग मास्टर बतलाते हैं कि नियमित रूप से कीगल अभ्यास करने से पुरुषों को उनके स्खलन पर नियंत्रण करने में मदद मिल सकती है, ऑर्गैज़म की तीव्रता में सुधार आ सकता है और यहां तक कि कड़ेपन की समस्या में भी सुधार हो सकता है. ऐसा भी पाया गया है कि कीगल्स से लिंग के कड़े आकार में भी वृद्धि हो सकती है, क्योंकि इस अभ्यास से लिंग सही से पूरे कड़ेपन को पा लेता है.

७. कुछ समय के लिए अवकाश लें

अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रेस के अनुसार, २०%अमेरिकी वयस्क चरम स्तर पर तनाव का अनुभव करते हैं. हाल के एक सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि देश में ४४% वयस्कों का मानना है कि वे पिछले पांच सालों की तुलना में अब तनाव के उच्च स्तर का अनुभव करते हैं. तनाव हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत ही बुरा होता है और यह न केवल हमें मानसिक रूप से बल्कि शारीरिक रूप से भी प्रभावित करता है. हेल्थलाइन इस बात को रिपोर्ट करता है कि तनाव सीधे कड़ेपन की समस्या में योगदान करता है, वहीँ अप्रत्यक्ष रूप से यह दिल के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है जिसके फलस्वरूप रक्तचाप में वृद्धि होती है और आप शराब के आदी भी होने लगते हैं. अपने तनाव पर रोकथाम करने के लिए आपको छुट्टी पर जाना चाहिए और फिर अपने दिमाग को आराम देते हुए शान्त करने का प्रयास करना चाहिए. आप अपने तनाव के स्तर को कम करने में मदद के लिए मजेदार गतिविधियों में भी भाग ले सकते हैं.

निष्कर्ष

नपुंसकता मनुष्य के जीवन में कई समस्याओं का कारण बन सकती है. सेक्स शुरू होने पर लिंग के कड़े न होने पर कोई पुरुष बहुत ही ज्यादा चिंता से ग्रस्त हो जाता है, जिससे उसके जीवन में अधिक तनाव रहने लगता है और अंत में, अवसाद के लक्षण भी विकसित होने लगते हैं. नपुंसकता से बाहर निकलने के लिए कई तरह की दवाओं का प्रयोग किया जाता है जिसमे वयाग्रा प्रयोग में लायी जाने वाली सबसे आम दवा है, जो कि लिंग में रक्त के संचार को बढ़ाती है - लेकिन यह अक्सर अंतर्निहित समस्याओं को सही नहीं करती है और इसके बुरे साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं. हमारे द्वारा इस पोस्ट में साझा की गई सरल, प्राकृतिक और आसानी से लागू होने वाली युक्तियों से संभवतः आप बिना किसी हानिकारक दवाओं के प्रभाव की चिंता किए बगैर कड़ेपन की समस्या में सुधार ला पाएंगे.
Comments:
Comment on
reload, if the code cannot be seen
Useful articles about health and beauty in India
Hindi-health.pro © 2018