» » क्या आपका तिरछा लिंग सामान्य है? और इसे कैसे ठीक किया जा सकता है.

क्या आपका तिरछा लिंग सामान्य है? और इसे कैसे ठीक किया जा सकता है.

20 July 2018, Friday
250
0



ज्यादातर लोग सोचते हैं कि लिंग सीधा होना चाहिए. हालांकि, हकीकत में, कुछ पुरुषों का लिंग थोडा तिरछा होता है. इस तिरछेपन का मतलब लिंग की किसी असामान्यता या दिक्कत से नहीं होता है. दुर्भाग्य से, लिंग के तिरछेपन को ज्यादातर लोग गलत रूप से लेते हैं. जब कोई लिंग किसी दिशा में झुकता है, फिर चाहे यह ऊपर, नीचे या किनारे की तरफ हो, तो अक्सर लोग सोचते हैं कि यह असामान्य है.

इस कारण से, कई महिलाएँ जब किसी तिरछे लिंग को देखती हैं तो उन्हें यह आश्चर्यजनक लगता है. अक्सर लड़कियां डरती हैं कि जब तिरछा लिंग उनकी योनि में जायेगा तो इसका तिरछापन उनके दर्द का कारण बन जायेगा. महिलाओं की इन प्रतिक्रियाओं से पुरुषों चिंतित और असहज महसूस करते हैं. यह न केवल बिस्तर में उनके प्रदर्शन को प्रभावित करता है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी ठेस पहुचाता है. तो, क्या तिरछा लिंग सामान्य होता है या नहीं?

हम कभी भी आपके ईमेल को किसी के भी साथ साझा नहीं करेंगे और न ही आपकी जानकारी को किसी को बेचेंगे.

सामान्य रूप से, एक तिरछा लिंग हमेशा असामान्य नहीं होता है. कई पुरुषों का लिंग घुमावदार होता है. थोड़ा तिरछा लिंग बेंट पिनिस सिंड्रोम से अलग होता है जिसमे लिंग गंभीर रूप से तिरछा या घुमावदार होता है.

पेरोनी के रोग में लिंग गंभीर रूप से घूमा हुआ होता है जिसके चलते कड़ेपन के दौरान या फिर यौन संभोग के दौरान यह दर्ददायक हो सकता है. हालांकि, थोड़ा तिरछा लिंग दर्ददायक नहीं होता है. इस तरह का लिंग एकदम सामान्य होता है बस उसमे हल्का तिरछापन होता है. तिरछे लिंग के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए आगे पढ़ते रहें.


मेरा लिंग तिरछा क्यों है?

लिंग विभिन्न प्रकार, रंग और आकार के होते हैं. वैसे ही लिंग के तिरछेपन के भी विभिन्न प्रकार होते हैं. डमीज़ के अनुसार, एक तिरछा लिंग वह लिंग होता है जो कड़ेपन की स्थिति में ऊपर, नीचे या किनारे की तरफ झुका रहता है.

लिंग के झुकाव की दिशा क्रस (त्वचा के नीचे का लिंग) के अनुपात पर निर्भर करता है. ज्यादातर पुरुषों के मामलों में, लिंग का झुकाव सामान्य मानदंडों के भीतर आता है और इससे उनका रिश्ता प्रभावित नहीं होता है.



आंकड़े बताते हैं.

एक लिंग जो ऊपर की तरफ घुमावदार होता है वही लड़कियों के जी-स्पॉट को हिट करने में बहुत सहायक होता है. तो मिशनरी स्थिति निश्चित रूप से आप दोनों के लिए बहुत ही आनंददायक होगी. हालांकि, लिंग की इस वक्रता के नुकसान भी होते हैं. थंडर प्लेस के अनुसार ये कुछ नुकसान हैं.

पेयोनिस रोग और सामान्य वक्रता के बीच के अंतर को समझने के लिए हमारे लेख को देखें

दबाव के चलते तरह-तरह की पैंतरेबाज़ी दिखाना मुश्किल होता है.

ऊपर की ओर घुमावदार लिंग होने से आपके लिए सम्भोग अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है क्योंकि आपको अपने लिंग को उस तिरछे कोण के खिलाफ दबाव डालकर घुसेड़ना होता है.

  • अपनी साथी के मुह में गहराई से नहीं डाल सकते हैं या फिर इसके लिए आपको फेसफ़क पोजीशन में आना होगा.
  • एक सीधे लिंग की तुलना में यह दिखने में उतना उत्तेजक नहीं होता है.
  • अगर पैंट में आपका लंग कड़ा हो गया तो इसको छिपा पाना बहुत ही मुश्किल होता है.
  • आपका लिंग तिरछेपन के कारण छोटा नज़र आता है.

नीचे की तरफ घुमावदार लिंग

कुछ लिंग नीचे की तरफ घुमावदार क्यों होते हैं? वे पुरुष जिनके लिंग में क्रस छोटा और मेम्बर लम्बा होता है उनका लिंग नीचे की तरफ झुक जाता है. पेरोनी के रोग में, घुमावदार लिंग शाफ्ट के नीचे के झुकाव के कारण होता है जिसके परिणामस्वरूप आपका लिंग जब खड़ा होता है तो यह नीचे की तरफ झुक जाता है.



यह स्थिति डॉगी स्टाइल में अपने साथी के जी-स्पॉट को हिट करने में बहुत अच्छी होती है. ऊपर की ओर घूमे लिंग की तरह इसकी भी अपनी चुनौतियां होती हैं:

  • यौन संबंध करना बहुत मुश्किल होता है.
  • मिशनरी स्थिति करना बहुत ही कठिन या लगभग असंभव ही होता है.
  • सेक्सुअल पोजीशनों की संख्या बहुत ही सीमित हो जाती है.
  • सीधे लिंग की तुलना में यह आकर्षक नहीं लगता है.

एक सामान्य घुमावदार लिंग कैसा होता है

घुमावदार लिंग होने का यह अर्थ नहीं होता है कि आपके लिंग में कोई गड़बड़ी है. लेकिन मैं समझ सकता हूँ कि इस लेख को पढ़ने के दौरान, आप सोच रहे होंगे कि, "आपके लिंग का कितना झुकाव सामान्य है?" आपको आपके प्रश्न का जवाब यहाँ मिल जाएगा.

आईएमओपी के मुताबिक, ज्यादातर पुरुषों में १०-१५ डिग्री का तिरछापन अभी भी सामान्य माना जाता है. यह कोई समस्या नहीं है.

हालांकि, जब तिरछापन ३० डिग्री तक पहुंच जाता है, तो इसे हल्की वक्रता के रूप में देखा जाने लगता है. लिंग का इतना तिरछापन लिंग के कार्यों को और यौन संबंधो को प्रभावित तो नहीं करता है लेकिन इतनी वक्रता मनोवैज्ञानिक रूप से पुरुषों को अवश्य ही प्रभावित करती है. लेकिन आपको एक बात तो स्वीकार करनी होगी कि तिरछा लिंग सीधे खड़े लिंग की तुलना में आकर्षक नहीं होता है.

वहीँ पेरोनी की बीमारी दर्दनाक होती है और यूरोलॉजिकल केयर के अनुसार, विकृतियों में शाफ्ट का संकुचन या फिर ९० डिग्री तक का झुकाव हो सकता है.



घुमावदार लिंग के साथ सेक्स

आदर्श रूप में लिंग सीधा होना चाहिए. हालांकि, वास्तविक जीवन में घुमावदार लिंग भी होते हैं. लिंग ऊपर, नीचे और किनारों की तरफ झुके हुए होते हैं.

लिंग के विभिन्न आकारों के विभिन्न फायदे और नुकसान होते हैं. घुमावदार लिंग से सीधे लिंगों की तुलना में एक अलग तरह का यौन सुख प्राप्त होता है जिससे ज्यादातर महिलायें परिचित नहीं होती हैं.

आम तौर पर, एक घुमावदार लिंग या तो किसी महिला को खुश करता है या फिर दर्द भी दे सकता है. उदाहरण के लिए, गेवेरी लुईस के अनुसार, एक घुमावदार लिंग योनि की दीवारों में धक्का दे सकता है जिससे महिला को योनि के अंदर लिंग बहुत बड़ा महसूस हो सकता है.

दिशा के आधार पर, एक तिरछा लिंग योनि के विभिन्न हिस्सों को उत्तेजित कर सकता है जो सीधे लिंग से कभी भी संभव नहीं हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप आपकी साथी को अतिरिक्त आनंद मिल सकता है.

उदाहरण के लिए, ऊपर की तरफ़ घुमावदार लिंग मिशनरी पोजीशन में किसी महिला के जी-स्पॉट को उत्तेजित कर सकता है. हालांकि, नीचे की तरफ का घुमावदार लिंग डॉगी स्टाइल में जी-स्पॉट को उत्तेजित कर सकता है.

वहीँ दूसरी तरफ, अप्रैल पाउची के अनुसार तिरछेपन की डिग्री भी मायने रखती है. उदाहरण के लिए, थोड़ी वक्रता वाले लिंग सामान्य होते हैं. हालांकि, अगर आपके लिंग की वक्रता एकदम दाएं या एकदम बाएं तरफ़ है, तो यह दर्ददायक हो सकता है.

आम तौर पर, यह आपकी महिला पर भी निर्भर करता है. ऐसा महिलाएं हैं जिनके लिए लिंग सीधा होना चाहिए, लेकिन जिन महिलाओं ने तिरछे लिंग से खुशी का अनुभव कर लिया किया वे कभी भी उस सुख को भूल नहीं पाती हैं, जिसके चलते तिरछा लिंग उनके दिलोदिमाग में घर कर जाता है.

घुमावदार लिंग का एकमात्र नकारात्मक पक्ष यह होता है कि सेक्स पोजीशनों की संख्या आपके लिए बहुत ही कम हो जाती है. उदाहरण के लिए, नीचे की तरफ़ झुका लिंग डॉगी स्टाइल में अच्छी तरह से काम करता हैं लेकिन मिशनरी पोजीशन में कुछ नहीं कर पाता है. वहीँ दूसरी ओर, ऊपर की ओर घुमावदार लिंग मिशनरी पोजीशन में अपना धमाल दिखाता है.

घुमावदार लिंग के साथ यौन संबंध बनाना अधिक आनंददायक हो सकता है, लेकिन यदि पुरुष पेरोनी रोग से पीड़ित है तो उन्हें बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है; जैसे सम्भोग में दर्द का अहसास होगा, कड़ेपन में भी दर्द होगा.

इस प्रकार, एक बेंट पिनिस सिंड्रोम और हल्के घुमावदार लिंग के बीच बहुत बड़ा अंतर होता है. यदि आपका लिंग केवल थोड़ा झुका हुआ है, तो आप अभी भी बिना किसी दर्द या दिक्कतों के सामान्य रूप से यौन संबंध बना सकते हैं.

Comments:
Comment on
reload, if the code cannot be seen
Useful articles about health and beauty in India
Hindi-health.pro © 2018