» » मेरा लंड बहुत छोटा है, इसे कैसे लम्बा किया जाए?

मेरा लंड बहुत छोटा है, इसे कैसे लम्बा किया जाए?

16 July 2018, Monday
345
0


सबसे पहले तो हमें यह परिभाषित करना होगा कि वास्तव में छोटे लंड से हमारा क्या मतलब है और किसी भी व्यक्ति के व्यक्तिगत अनुभव के अलावा इस विषय में आंकड़े क्या कहते हैं: लंड का ढीला आकार अप्रासंगिक होता है, कुछ पुरुषों का लंड ढीला होने पर तो बहुत छोटा होता है लेकिन जब कड़ा होता है ना तो अच्छे-अच्छे लंडों को पीछे छोड़ देता है, वहीं दूसरी तरफ ऐसे मर्द भी होते हैं जिनका लंड ढीला होने पर तो ठीक-ठाक बड़ा होता है लेकिन जब वे उत्तेजित होते हैं तो उनके लंड की मोटाई या लंबाई में ख़ास वृद्धि नहीं होती है. ढीले और कड़े लंड के आकार में कोई भी सहसंबंध नहीं है .
यहाँ तक कि प्रतिष्ठित अध्ययनों में भी, सांख्यिकीय औसत भिन्न होता है, अब तक के सबसे बड़े अध्ययन (१६६१ यौन समबन्धों में सक्रिय पुरुषों पर आधारित) के अनुसार अमेरिकी लोगों के लिंग की औसत लम्बाई 5.5 इंच होती है, जिसे हम प्रसिद्ध चिकित्सा  जर्नल पर पा सकते हैं. अधिकांश पुरुषों के खड़े लंड की लम्बाई ५ से ६ इंच के बीच होती है, इसलिए ५ इंच से छोटे लंड को छोटा माना जा सकता है. पोर्न फिल्मों में अक्सर दिखाए जाने वाले लंड के आकार से मूर्ख मत बनें, क्योंकि वे सभी कलाकारों औसत आकार से कहीं अधिक ऊपर के होते हैं. निश्चित रूप से ये फिल्में किसी भी सांख्यिकीय औसत को नहीं दर्शाती हैं और यहाँ तक कि पुरुष कलाकारों के लंड को और भी बड़ा दर्शाने के लिए विजुअल ट्रिक्स का भी उपयोग किया जाता है.

क्या महिलाओं के लिए लंड का आकार मायने रखता है?

यह सवाल अक्सर पुरुषों के दिमाग में कौंधता रहता है. जबकि वहीं महिलाएं दावा करती हैं कि उनके लिए लंड का आकार कुछ ख़ास महत्वपूर्ण नहीं होता है, सम्भोग के आनंद की असली चाबी तो सही तकनीक और साथी के प्रेम में निहित होती है, लेकिन यह केवल आधा सच है. पूरी तरह से अज्ञात सर्वेक्षणों में महिलाओं ने यह दावा किया है कि लंड आकार उनके लिए कम से कम सौंदर्य के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण होता है, आमने-सामने हुए सर्वेक्षणों की तुलना में गुप्त सर्वेक्षणों में महिलाओं ने लंड के आकार की उपयोगिता को स्वीकार किया. इस तथ्य का यह मतलब बिलकुल भी नहीं है कि एक छोटा लंड महिलाओं को संतुष्ट नहीं कर सकता है, या अगर आपका लंड छोटा है तो आपका यौन जीवन अच्छा नहीं हो सकता है, लेकिन दिल दहलाने वाली सच्चाई यह है कि: कम से कम कुछ महिलाओं के लिए  आकार मायने रखता है. १९४२ के बाद से कई संस्थानों के संयुक्त अध्ययन के अनुसार, यदि आपका लंड छोटा है, तो आपको घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है, ८५% महिलाएं अपने साथी के लंड के आकार से खुश रहती हैं, जबकि केवल ५५% पुरुष अपने लंड के आकार से खुश होते हैं. इसलिए, यह समस्या उतनी भी बड़ी नहीं है जितना कि इसे समझा जा रहा है.
अच्छी खबर: बहुत बड़ा लंड भी अच्छा नहीं होता है, अगर आपका लंड घोड़े की तरह हो जाता है तो इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि बहुत सारे चुदाई के आसन आपके लिए बेकार हो जायेंगे क्योकि उनमे आपके साथी की चूत का दर्द से भोसड़ा बन जायेगा. महिलाओं की चूत पूरे खिंचाव के दौरान औसतन केवल ४.५ इंच गहरी होती है. इसलिए, औसत आकार के लंड के या औसत से थोड़े नीचे के लंड के फायदे भी हो सकते हैं, खासकर यदि आपको गांड मारना अच्छा लगता है.

क्या लंड का आकार आनुवंशिकी निर्धारित करती है?

निश्चित रूप से हाँ, आपके लंड का बड़ा या छोटा होना ज्यादातर आपके जीनों द्वारा प्रभावित होता है. बड़े लंड वाले पुरुषों के पुत्रों का लंड अक्सर बड़ा होता है और छोटे लंड वाले पुरुषों के बच्चों का लंड अक्सर छोटा ही होता है. निश्चित रूप से इस धारणा में अपवाद भी प्राप्त होते हैं, लेकिन सामान्य तौर पर लंड के आकार के निर्धारण में अनुवांशिक गुण बहुत बड़ा किरदार निभाते हैं.

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

क्या भोजन या सप्लीमेंट की मदद से लंड के आकार को बढ़ने में मदद मिलती है?

न तो भोजन और न ही कोई सप्लीमेंट लंड की वृद्धि या इसके आकार को प्रभावित करता है. यही कारण है कि इंटरनेट पर प्रदर्शित की जाने वाली सभी तथाकथित लंड को बड़ा करने वाली गोलियाँ बिल्कुल भी कारगर नहीं होती हैं, आपको उन सभी नकली वादों पर कभी भी विश्वास नहीं करना चाहिए. वे सभी गोलियां केवल रक्त के प्रवाह में वृद्धि करती हैं, जिससे लंड पहले से थोडा अधिक कड़ा हो सकता है, लेकिन जैसे ही आप उन गोलियों को लेना बंद कर देते हैं वैसे ही उनका प्रभाव भी तुरंत ही खत्म हो जाता है. इसलिए बहुत ही कम और गैर-स्थायी प्रभावों पर लोगों का बहुत धन बर्बाद होता है. यह लोगों को आकर्षित करने वाला होता है, उन गोलियों के विक्रेताओं की वेबसाइटों पर आपको मुस्कुराते हुए डॉक्टर्स दिखाई पड़ेंगे, भारत में हुए नकली वैज्ञानिक अध्ययनों के लिए उन्हें भुगतान भी किया जाता है, प्रसिद्ध पोर्न कलाकारों के नकली प्रशंसापत्रों का भी उपयोग किया जाता है, लेकिन यह सिर्फ केवल और केवल एक बड़े घोटाले को करने की योजना होती है. यह एक बेहद लाभदायक व्यवसाय है, इसमें बहुत ही सस्ती कीमत की जड़ी-बूटियों को बहुत ही महंगे दामों पर बेचा जाता है, अक्सर ऐसे भुगतानों में बहुत सारी छुपी हुई शर्ते होती हैं, जिनसे एक समय के बाद भुगतान स्वतः हो जाता है. महत्वपूर्ण बात: लंड को बड़ा करने वाली गोलियाँ अक्सर "नकली तेल" से बनी होती हैं जिसे अक्सर चीन से सस्ते दामों पर आयात किया जाता है, और आपको बहुत ही महंगे दामों पर दिया जाता है. साथ ही साथ यह आपके स्वास्थ्य के लिए भी अत्यधिक हानिकारक हो सकता है. विशेष रूप से हैवी मेटल्स और कार्सिनोजेनिक रंग संभावित समस्याओं के कारण हो सकते हैं. कुछ विक्रेताओं का दावा है कि उनके उत्पादों का उत्पादन एफडीए द्वारा अनुमोदित प्रयोगशालाओं में किया जाता है, लेकिन इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि उनका उत्पाद भी एफडीए द्वारा नियंत्रित होता है, जैसे कि अन्य चिकित्सकीय दवायें नियंत्रित होती हैं.


इससे भी बदतर तो तब होता है जब इन गोलियों में खरीदारों को लुभाने के लिए गोपनीय पदार्थ भी डाले जाते हैं, जिससे ग्राहक उनके उत्पादों को खरीद लें. एफडीए की आधिकारिक चेतावनी "दागिल यौन स्वास्थ्य उत्पाद" की सूची में सैकड़ों अलग-अलग ब्रांड्स की लंड को बड़ा करने वाली गोलियों को दर्शाया गया है. इस सूची में कुछ बहुत बड़ी कंपनियों के नाम भी हैं. इन दवाओं में बताये न जाने वाले घटकों में अक्सर अक्सर सिल्डेनाफिल, टडालाफिल या वारडेनाफिल होते हैं. इन घटकों का मुख्य प्रयोग कड़ेपन की समस्याओं को सही करने में या छोटे कड़े लंड की समस्या में किया जाता है. हालांकि इस नुस्खे वाली दवा से केवल कड़ेपन की समस्या से पीड़ित मरीजों की मदद हो सकती है, लेकिन इसके खतरनाक साइड इफेक्ट्स और इंटरैक्शन भी हो सकते हैं, खासकर उन लोगों के लिए जो कि कार्डियक सम्बन्धी दवाओं का सेवन कर रहे होते हैं. सबसे बुरे मामले में, ऐसी दवाएं दिल के दौरे का कारण बन सकती हैं, इन संदिग्ध लंड की वृद्धि करने वाली गोलियों से संबंधित कई मौतें भी हो चुकी हैं. इसलिए अपने जीवन को जोखिम में न डालें और इन लंड को बढाने वाली गोलियों से दूर ही रहें, इससे कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि इनके विज्ञापन या समीक्षायें कितनी मोहक या वास्तविक क्यों न लगें. इसके बजाय प्रभावी प्राकृतिक प्रशिक्षण के तरीके को आजमायें.

क्या शल्य चिकित्सा से लंड का आकार बढ़ाया जा सकता है?

हाँ, सर्जरी से लंड के आकार में वृद्धि हो सकती है, लेकिन सर्जरी हमेशा जोखिमों से भरी हुई होती है, जैसे एनेस्थीसिया का प्रयोग, घाव भरने की समस्याएं, घावों में होने वाला दर्द, सबसे खराब मामले में विकृत लंड या स्थायी कड़ेपन की समस्याएं भी हो सकती हैं. सर्जरी का विकल्प बिना किसी संदेह के प्रभावी होता है, लेकिन हमारी राय में यह अंतिम उपाय है. बहुत ही छोटे लंड वाले पुरुषों के लिए (२.७५ इंच से छोटा) यह एकमात्र समाधान होता है, लेकिन दुनिया भर के सभी पुरुषों में से केवल ०.५% ही इस समस्या से ग्रस्त हैं. यदि आपके लंड का आकार औसत से थोड़ा ही नीचे हैं, तो सर्जरी से होने वाले फ़ायदे की तुलना में जोख़िम कहीं अधिक हैं.
जोखिमों के अलावा, यह लंड वृद्धि का सबसे महंगा तरीका है. अबाउट हेल्थ के अनुसार इसका खर्चा ₹३ लाख से लेकर ₹15 लाख तक हो जाता है. यदि आप फिर भी सर्जिकल एन्हांसमेंट में रूचि रखते हैं, तो हम आपको संभावित शल्य चिकित्सा तकनीकों और परिणामों के बारे में  मेडस्केप पर गहन लेख को पढने की सलाह देते हैं.
इसका यह मतलब बिलकुल भी नहीं है कि लंड की सर्जरी का विकल्प पूरी तरह से नपुंसकता की समस्या से प्रभावित लोगों (कड़ेपन की समस्या) के लिए कारगर नहीं है, लेकिन केवल लंड की लम्बाई को बढ़ाने के लिए, इससे कहीं अच्छे विकल्प मौज़ूद हैं, जिनमे ख़तरा न के बराबर है. जिम्मेदार प्लास्टिक सर्जन केवल बहुत ही छोटे लंड वाले मरीजों को ही शल्य चिकित्सा का विकल्प सुझाते हैं. इसके अलावा, इस ख़ास प्रक्रिया को एकदम सही से और बारीकी से कर पाने वाले बहुत ही कम सर्जन हैं जो इसे सुरक्षित रूप से अंजाम दे सकते हैं.

क्या एक्सटेंडर या पंप से छोटा लंड बढ़ सकता है?

स्ट्रेचिंग डिवाइस और लंड को बड़ा करने वाले पंप तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं, जिन्हें अक्सर हज़ारों रुपयों मे बेचा जाता है. हम इन उपकरणों से दूर रहने की सलाह देते हैं, क्योंकि इनके उपयोग से आपके लंड के रंध्रमय ऊतक और रक्त वाहिकायें स्थायी रूप से क्षतिग्रस्त हो सकती हैं. सबसे बुरे मामले में, एक्सटेंडर के उपयोग से लंड के सीधे खड़े होने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है, जिससे आपका लिंग सही से खड़ा नहीं हो पायेगा या फिर तुरंत ही ढीला पड़ जायेगा. यद्यपि कई सर्जन इनके बारे में अक्सर चेतावनी देते रहते हैं, लेकिन इन चेतावनियों को लोग अनसुना और अनदेखा कर देते हैं. स्ट्रेचिंग उपकरणों के अत्यधिक और गलत उपयोग से क्षतिग्रस्त हुए लंड को सही करने वाली सर्जरी बहुत ही महंगी होती है और शायद ही कभी इससे समस्या पूरी तरह से सही हो सके. प्रसिद्ध  जर्मन यूरोलॉजी सेंटर के डॉक्टर्स जो कि दुनिया के शीर्ष लिंग वृद्धि सर्जन हैं, उनका कहना है कि वे इस प्रकार की चोटों से पीड़ित मरीजों में कोई दिलचस्पी नहीं रखते हैं, क्योंकि इस तरह की क्षति को ठीक करना बेहद मुश्किल है. इसलिए जल्द से जल्द इन "स्टड क्विक एक्स्टेंडर मार्क III प्रो पावर सॉल्यूशन सुपर साइज" जैसी बकवास चीज़ों के बारे में भूल जायें! इन कंपनियों की बातों में कभी भी न आयें जो कि इन उपकरणों को चिकित्सकीय उपकरण, डॉक्टरों द्वारा अनुमोदित, खरीदे हुए प्रशंसापत्रों, पहले और बाद के चित्रों को फ़ोटोशॉप में प्रमाण के रूप में तैयार करा के लोगों को मूर्ख बनाने की कोशिश में लगी रहती हैं.
विशेष रूप से स्ट्रेचर की मार्केटिंग बहुत ही प्रभावी ढ़ंग से की जा रही है क्योंकि चीन में इसके निर्माण की लागत केवल १५०० रूपए तक होती है और वही इसे उपभोक्ताओं को १० हज़ार रूपए से लेकर लगभग ३० हज़ार रूपए में तक बेचा जाता है. आपको इस बात पर विश्वास नहीं हो रहा है? थोक मूल्यों के लिए आप अलीबाबा जैसी चीनी वेबसाइटों / बाजारों की जांच कर सकते हैं. २५००% का मुनाफा, इतने फ़ायदे के लिए तो लोग कुछ भी करने के लिए तैयार हो जायेंगे, इसलिए कंपनियां एक्सटेंडर्स की बिक्री को अच्छा करने के लिए शानदार वेबसाइटों का निर्माण करवाती हैं, नकली प्रशंसापत्रों को लिखवाती हैं या फिर इन बेकार और खतरनाक उपकरणों की समीक्षाओं के लिए डॉक्टर्स को रुपए देती हैं.


क्या ट्रेनिंग से मेरा छोटा लंड बड़ा हो सकता है?

प्रायः जेल्किंग के नाम से प्रसिद्ध अभ्यास को प्राचीन मिस्र में लंड के आकार को बढ़ाने के लिए प्रयोग में लाया जाता था. जबकि अरबों डॉलर की कंपनियां जो कि गोलियाँ और एक्सटेंडर आदि बनाती हैं, आपको सस्ती जड़ी बूटियां या सस्ते उपकरण बहुत महंगे दामों पर बेचने का प्रयास करती हैं, ये बाज़ार में हमेशा इसी बात को स्थापित करने में लगे रहती हैं कि ये विधियां अच्छी तरह से काम नहीं करती हैं, जबकि वास्तव में ये विधियाँ काम करती हैं. " लंड वृद्धि उपाय" जैसे प्रतिष्ठित प्रशिक्षण कार्यक्रमों ने हजारों पुरुषों की उनके लंड के आकार को बढ़ाने में मदद की है.
इसमें चमत्कार की अपेक्षा न करें, लेकिन प्रशिक्षण के कुछ हफ्तों के बाद अपने खड़े लंड के आकार में आप लगभग २ इंच आसानी से जोड़ लेंगे इस विषय में कोई भी अपवाद नहीं है. कई पुरुषों ने इस तरह के परिणाम रिपोर्ट किए हैं, यहां तक कि कुछ पुरुषों ने ४ इंच तक के विकास की बात स्वीकार की है. किसी अन्य कसरत की तरह, इसके परिणाम कुछ ही दिनों के बाद जादू के रूप में नहीं दिखाई पड़ेंगे, लेकिन सही योजना से आप धीमी लेकिन स्थिर वृद्धि प्राप्त कर पायेंगे.
फायदे: यह सुरक्षित है, आप इसे आज़मा कर अपने स्वास्थ्य को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे. यह सस्ता है, एक छोटे लंड के अभ्यास में लगभग ३ हज़ार रूपए का एक बार निवेश होता है, इसमें कोई छुपा हुआ आवर्ती शुल्क भी नहीं होता है. यह कीमत फ़ालतू की गोलियों की १ महीना की लागत से आधे में ही निकल आएगी.
महत्वपूर्ण: विशेष रूप से युवा पुरुष अक्सर अपने लंड के बारे में असुरक्षित महसूस करते हैं, जबकि उनका लंड अभी बढ़ने की प्रक्रिया में ही होता है. लंड के अभ्यास केवल वयस्कों के लिए ही उपयुक्त होते हैं, जब प्राकृतिक स्तर पर लंड की वृद्धि की कोई भी सम्भावना समाप्त हो जाती है. प्राकृतिक वृद्धि की आख़िरी उम्र बीस वर्ष तक की आयु होती है. इस उम्र के पहले ट्रेनिंग की सिफारिश नहीं की जाती है.

लंड वृद्धि में कितना समय लगता है?

सर्वोत्तम परिणामों के लिए, कम से कम तीन से छह महीने तक का समय लेकर चलें. लंड वृद्धि के अभ्यासों की सफलता प्रत्येक व्यक्ति में अलग-अलग होती है, कुछ लोग वास्तव में बहुत भाग्यशाली होते हैं और उन्हें कुछ ही हफ्तों में अच्छी खासी बढ़त मिल जाती है, वहीं कुछ और लोगों के लिए इसमें थोड़ा अधिक समय लग जाता है. इसलिए अगर आपको तेजी से नतीजे नहीं मिल रहे हैं तो हार न मानें, हर लंड अपने आप में अलग होता है, लेकिन जैसा कि जेलकिंग विधि पहले से ही प्राचीन मिस्र में कारगर सिद्ध हुई है, इसलिए यह आपके लिए भी कारगर सिद्ध होगी. आज की तकनीकें और अभ्यास पहले की तुलना में बहुत अधिक परिष्कृत हैं, इन्हें हजारों पुरुषों द्वारा आज़माया गया है और उन्होंने सफलतापूर्वक अपने लंड के आकार को भी बढ़ाया है, इसलिए यह वास्तव में केवल समय की बात है. यह अपवादों के बिना सभी के लिए काम करता है. जिम में प्रशिक्षण की तरह यह भी कोई आसान तरीका नहीं है: खुद को धोखा देना, व्यायाम छोड़ देना या आलस्य दिखाना और प्रशिक्षण की उपेक्षा करने से परिणामों को आने में और भी अधिक समय लगेगा. इसलिए इसे बस  कर ही दो!

क्या मेरे लंड को बड़ा दिखाने के तरीके मौज़ूद हैं?

शानदार खबर, यहाँ तक कि अगर आपके लंड का आकार में वास्तव में बड़ा न भी हो, तो भी आप अपने ढीले और खड़े लंड को बड़ा दिखा सकते हैं. सबसे आसान उपाय यह है कि आप अपनी झांटों को साफ़ कर लें, अगर आपका लंड झाटों में छिप जा रहा होगा तो यह दिखाई पड़ने लगेगा, इससे आपका लंड पहले से कहीं अधिक बड़ा दिखने लगेगा. अगर आपका वजन सामान्य से अधिक है, तो पेट से वजन कम करें जिससे ऑप्टिकल स्तर पर आपका लंड बड़ा दिखेगा. दुर्भाग्यवश, इन जुगाड़ों से आपका लंड केवल ऑप्टिकल स्तर पर ही बड़ा होगा, इससे आप आसानी से तुरंत ही अपने लंड को बड़ा दिखा सकते हैं.

स्माल पिनिस सिंड्रोम (एसपीएस) क्या है?

आम धारणा के विपरीत, स्माल पिनिस सिंड्रोम एक मानसिक विकार है, जिसे शरीर के विघटन संबंधी विकारों (बीडीडी) के अंतर्गत रखा जाता है. असल में, यह अपने शरीर के प्रति गलत धारणा के चलते होता है, इससे प्रभावित पुरुषों को लगता है है कि उनका लंड बहुत ही छोटा है, और वे इसी विचार से भ्रमित बने रहते हैं, हालांकि उनके लंड की लंबाई और मोटाई सामान्य होती है. जब इस तरह के विचारों से लोग बहुत परेशान होने लगते हैं तो वे अवसाद, चिंता और अलगाव सहित कई अन्य मनोवैज्ञानिक विकारों से भी ग्रसित हो सकते हैं. यह एक बहुत ही असामान्य मनोवैज्ञानिक समस्या है जो अक्सर नकारात्मक व्यक्तिगत अनुभवों से शुरू होती है. उदाहरण के लिए किसी महिला द्वारा मना कर दिया जाना या अन्य यौन समस्याएँ आदि. यदि आपको लगता है कि आपका लंड छोटा है, लेकिन लंड को नापने पर उसकी लम्बाई, मोटाई सही निकलती है तो ऐसे में आपको किसी पेशेवर मनोवैज्ञानिक की मदद लेनी चाहिए.

क्या लंड के आकार और जल्दी पानी छूटने के बीच कोई संबंध है?

एक छोटा लंड बड़े लंड की तुलना में अधिक संवेदनशील नहीं होता है, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि इन दोनों के बीच कुछ तो संबंध अवश्य है, बड़े लंड वाले मर्दों की तुलना में छोटे लंड वाले कई पुरुष इस बात की शिकायत करते हैं कि उनका पानी  समय से पहले ही निकल जाता है. चिकित्सकीय दृष्टिकोण से यह संयोग की बात हो सकती है, लेकिन मनोवैज्ञानिक द्रष्टिकोण से नहीं. इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आपकी साथी के लिए आपके लंड की लम्बाई और मोटाई कितनी महत्वपूर्ण है, लेकिन फिर भी छोटे लंड वाले पुरुष अक्सर असुरक्षा की भावना महसूस करते रहते हैं. इसी असुरक्षा के कारण वे तनाव और शारीरिक समस्याओं से घिर जाते हैं जिससे उनका पानी बहुत ही जल्दी निकलने लगता है. एक बार हुई विफलता अगली बार और भी अधिक तनाव को जन्म दे सकती है, इस तनाव के चक्र को तोड़ पाना बहुत ही मुश्किल होता है. यही कारण है कि लंड का आकार बढ़ जाने से चुदाई भी लम्बे समय तक चलने लगती है.

लंड की छोटी लम्बाई या मोटाई और आत्मविश्वास

आख़िरी बिंदु लेकिन बहुत ही महत्वपूर्ण, एक छोटे लंड की सबसे बड़ी समस्या खुद में लंड नहीं होता है, लेकिन उस लंड का मालिक होता है. प्रत्येक लंड दूसरे लंडों से अलग और अद्वितीय होता है, यदि आपके लंड का आकार औसत आकार से नीचे है तो भी आप एक अद्भुत और आनंददायक यौन जीवन पा सकते हैं. हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि चुदाई के दौरान महिलाओं की अधिकांश यौन उत्तेजना क्लिट से आती है, न कि उसकी चूत के अंदरूनी भाग से. इसके अतिरिक्त, आपके लंड के आकार के अलावा मर्दानगी में और भी कई महत्वपूर्ण पहलू होते हैं. यह शायद सबसे महत्वपूर्ण और मूल्यवान सलाह है जो कि हम आपको दे सकते हैं: आराम करने की कोशिश करें, एक बड़ा लंड ख़ुद से या जादुई रूप से आपको महिलाओं के लिए अधिक आकर्षक और प्यारा नहीं बना देगा. अपने आत्म-सम्मान को लंड के आकार को नियंत्रित न करने दें.

मुझे अतिरिक्त सहायता और मदद कहां से मिल सकती है?

अभ्यास करना और लगातार अच्छी आदतों को बनाए रखना कभी-कभी कठिन हो सकता है और आपको प्रेरणा की ज़रूरत पड़ सकती है. यदि आपको चीजों को टालने की आदत है, तो अच्छा होगा अगर आप किसी कोचिंग ट्रेनर की मदद ले लें, कोई ऐसा ट्रेनर जो यह अच्छे से जानता हो कि लंड वृद्धि कैसे होती है, कोई ऐसा व्यक्ति जिसने पहले से ही हज़ारों लोगों की लंड को बड़ा करने में मदद की हो. पुरुषों के लंड को बढ़ाने में मदद करने वाले सबसे प्रसिद्ध कोच, जिन्हें सीएनएन, एमएसएनबीसी और मेंस हेल्थ जैसी साइटों पर प्रदर्शित किया जा चुका है, वे हैं एजे अल्फारो, इन्हें "बिग अल" के नाम से भी जाना जाता है. वे दुनिया भर के कुछ वास्तविक लंड के आकार वृद्धि से जुड़े विशेषज्ञों में से एक है जो एक समय में एक ही व्यक्ति पर कार्य करते हैं, जिससे आप वास्तव में अपनी इच्छा के लंड को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं, इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आपकी समस्या लंबाई, मोटाई या तिरछेपन से जुडी हुई है. "मीकोच" नामक व्यक्तिगत कोचिंग में अन्य घर पर प्रदान किए जाने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रमों की तुलना में सामान्य से थोड़ा अधिक खर्च होता है, लेकिन यह फिर भी बहुत सस्ता होता है, आपके द्वारा चुने गए पैकेज के आधार पर लगभग २००० रूपए प्रति माह (१ महीना, ३ महीने या ६ महीने जिनमे फोन द्वारा साप्ताहिक कॉल और स्काइप के माध्यम से अपने कोच से सीधे बात करने की सुविधा). इसलिए, यदि आप असुरक्षित हैं या आप किसी गाइड के साथ सही तरीके से व्यायाम करना चाहते हैं, या आपको अतिरिक्त जानकारी की आवश्यकता है, या अपनी प्रगति के लिए कुछ अतिरिक्त प्रेरणा और दस्तावेजों की ज़रूरत है, तो इस प्रोग्राम पर आपकी खोज समाप्त होती है. बेशक, इसमें आपकी पूर्ण गोपनीयता की गारंटी है.
Comments:
Comment on
reload, if the code cannot be seen
Useful articles about health and beauty in India
Hindi-health.pro © 2018